Sunday, 1 April 2012

सेवा का अंदाज निराला....

मोहल्ले के नुक्कड़ में परचून की दुकान। इस दुकान के आगे आबारा कुत्तों की भीड़।  हर सुबह करीब साढ़े नौ बजे दूर से भास्कर जी के दिखाई देते ही कुत्तों की बेचैनी बढ़ जाती है। वे जोर-जोर से भौंकने के साथ उछलकूद करके खुशी का इंजहार करते हैं। कंधे पर बैग लटकाए भास्कर जी दुकान पर पहुंचते हैं और कुत्तों के लिए बंद या डबलरोटी के पैकेट खरीदते हैं। फिर एक-एक कर कुत्तों को खिलाना शुरू कर देते हैं। कुत्ते भोजन में मशगूल और भास्कर जी आफिस जाने के लिए आगे बढ़ जाते हैं। यही कुत्ते रात के समय भास्करजी के मकान के आगे सड़क पर ही डेरा जमाते। वहीं सोते और हुड़दंग भी मचाते। मजाल है कि कोई रात के समय भास्करजी के घर की तरफ झांकने का प्रयास करे। उनके घर की रखवाली के लिए कुत्तों का पूरा झुंड ही रहता।
पिछले कई सालों से यह सीन हर सुबह मुझे अक्सर अपने मोहल्ले में दिख जाता था। कुछ माह से भास्कर जी मुझे दिखाई नहीं दे रहे थे और न ही कुत्ते। ऐसे में मेरी जिज्ञासा बढ़ी कि आखिर भास्कर जी कहां चले गए।
मोहल्ले में किसी व्यक्ति की जन्मपत्री बांचनी हो, तो वहां के दुकानदार, धोबी या कामवाली ही काम आते हैं। हर व्यक्ति के  बारे में उन्हें इतना पता होता है, कि शायद उस व्यक्ति को भी इतना पता न हो, जिसके बारे में बताया जा रहा है। खैर मैं यही सोच रहा था कि कुत्तों को एक समय का भोजन अब कहां से मिलेगा। भास्कर जी दिखाई नहीं देते। मेरी जेब इतनी भारी नहीं है कि मैं करीब पंद्रह कुत्तों को हर  सुबह नाश्ता करा सकूं।
मोहल्ले का दुकानदार गट्टू लाला ही मेरे काम आया। मैं उसके पास गया और पूछा कि भास्करजी कहां चले गए। सुबह दिखाई नहीं देते। ऐसे में कुत्ते भी सुबह आपकी दुकान के आगे उनके इंतजार में खड़े नहीं रहते हैं। लालाजी ने बताया कि भास्कर जी सरकारी नौकरी से रिटायर्ड हो गए हैं। अब वह घर से कम ही बाहर निकलते हैं। कुत्तों को चिंता नहीं है। अब उन्होंने भास्करजी के घर के बाहर ही डेरा जमा लिया है। वहीं उन्हें खाने को मिलता है। सचमुच सेवा का मजा ही कुछ और है। सेवा का कोई क्षेत्र भी नहीं होता। किसी भी रूप में प्राणी की सेवा की जा सकती है। सेवा करने वाला दूसरों के साथ उपकार तो करता है। साथ ही उसे भी सच्चे आनंद की अनुभूति होती है। यही आनंद शायद भास्करजी को होता है। पशु प्रेम ही नहीं, वह तो वात्सल्य से भी ओतप्रोत हैं। करीब बीस साल पहले उनके घर के पास झाड़ियों में एक नजजात बच्ची को कोई फेंक गया। मौके पर भीड़ जमा हो गई। सलाह देने वालों की भी कमी नहीं थी। कोई कहता पुलिस को बुलाओ, तो कोई कुछ और सलाह देता। बच्ची को बचाने का कोई प्रयास नहीं कर रहा था। ऐसे में भास्कर जी ने बच्ची को उठाकर सीधे नर्सिंग होम पहुंचाया। वहां अपने खर्चे से उसका उपचार कराया। इसके बाद ही पुलिस को भी सूचना दी। फिर कानूनी कार्रवाई चली और एक दंपती को बच्ची गोद दे दी गई।
भास्करजी अब नौकरी से रिटायर्ड हो गए। आफिस में उनकी सीट पर शायद सन्नाटा पसरा हो। गली में गट्टू लाला की दुकान के आगे सुबह कुत्तों के चिल्लाने की आवाज नहीं सुनाई देती हो, लेकिन भास्करजी ने तो सेवा का कर्म नहीं छोड़ा। इसके गवाह हैं उनके घर के आगे सड़क पर आराम फरमाने वाले मोहल्ले के कुत्ते।

                                                                                                           भानु बंगवाल


No comments:

Post a Comment